राशिफल क्या है | Rashifal in Hindi

क्या आप भी रोज पढ़ते है राशिफल, जानिए राशिफल कितना होता है सही कितना गलत

हिन्दू धर्म में राशिफल (Horoscope) के माध्यम से काल-खण्डों के बारे में भविष्यवाणी की जाती है। जहां दैनिक राशिफल रोजाना की घटनाओं को लेकर भविष्यवाणी करता है तो वहीं साप्ताहिक, मासिक एवं वार्षिक राशिफल में क्रमशः सप्ताह, महीने और साल की भविष्यवाणी की जाती है। रोजमर्रा के जीवन में हर व्यक्ति अपने राशिफल के बारे में जानने को उत्सुक रहता है। आईये जानते है कि राशिफल क्या है, कैसे निकाला जाता है व उसके अन्य पहलुओं को जानने और समझने की कोशिश करते है।

राशिफल क्या है | Rashifal Kya Hai | Rashifal Ki Jankari

हर रोज हम अखबारों और न्यूज चैनलों में अपनी राशि का राशिफल देखते है। इस दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों (मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ और मीन) के दैनिक भविष्यफल के विषय में विस्तार से बताया जाता है। दैनिक राशिफल में आमतौर पर आपके लिए नौकरी, व्यापार, लेन-देन, परिवार और मित्रों के साथ संबंध, सेहत और दिनभर में होने वाली शुभ-अशुभ घटनाओं का भविष्यफल वर्णित होता है। इसके अलावा आप आज किस रंग के कपड़े पहने, क्या करें, क्या न करें। इसके बारे में बताया जाता है। कुछ ज्योतिषाचार्य दैनिक राशिफल में यह भी बता देते है कि आज आपका भाग्य कितना साथ देगा।

rashifal_in_hindi

राशिफल कैसे निकाला जाता है | Rashifal Kaise Dekhe | Rashifal Kaise Jane

दैनिक राशिफल ग्रह-नक्षत्र की चाल पर आधारित फलादेश है, जिसमें सभी राशियों का दैनिक भविष्यफल विस्तार से बताया जाता है। इस राशिफल को निकालते समय ग्रह-नक्षत्र के साथ-साथ पंचांग की गणना का विश्लेषण भी किया जाता है। चंद्रमा सप्ताह भर में लग्न या राशि से जिस भाव में भ्रमण करता है, उस तरह से दैनिक व साप्ताहिक राशिफल निर्धारित किया जाता है।

चंद्रमा का अलग-अलग भाव में गोचर फल इस प्रकार है | Rashifal Kaise Banaya Jata Hai | Aaj Ka Rashifal | Today Rashifal | Rashifal Today

प्रथम भाव: भाग्योदय, उपहार प्राप्ति, धन लाभ, उत्तम भोजन, कार्य की सफलता।
द्वितीय भाव: मन में अस्थिरता, असंतोष, नेत्र विकार, व्यर्थ की भागदौड़ व अपव्यय बताता है।
तृतीय भाव: पराक्रम में वृद्धि, धन का लाभ, प्रसन्नता, सम्मान, उन्नति के अवसरों का मिलना
चतुर्थ भाव: दिनचर्या अस्तव्यस्त होना, व्यर्थ की भागदौड़, परिवार में विवाद, अनिद्रा के बारे में पता चलता है।
पंचम भाव: शोक, संतान से कष्ट, वायु विकार, धन हानि
षष्ठ भाव: धन लाभ, शत्रुओं पर विजय, पारिवारिक सुख-शांति, स्वास्थ्य लाभ
सप्तम भाव: धन लाभ, यश, स्त्री व वाहन सुख, समस्या समाधान
अष्टम भाव: कष्ट, कार्य में बाधाएँ, धन हानि, अस्वस्थता
नवम भाव: अपयश, राज्य भय, व्यर्थ प्रवास, व्यापार में असफलता
दशम भाव: कार्य सिद्धि, सुख व लाभ की प्राप्ति, निरोगी काया
एकादश भाव: प्रसन्नता, धन लाभ, उत्तम भोजन व द्रव्य की प्राप्ति, परिजनों का सुख
द्वादश भाव: धन हानि, रोग, अपव्यय, दुर्घटना, वाद-विवाद


राशिफल का महत्व |

राशिफल ने हमारे दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण स्थान बना लिया है। राशिफल को पढ़कर ही हम अपनी दैनिक दिनचर्या को बनाते है। कुछ लोग राशिफल को नहीं मानते और उनका कहना है कि यह कोरी कल्पना है। यह उतना ही गलत है जैसे कि आप किसी धर्म विशेष को माने या ना माने लेकिन उस धर्म में बताई गई बाते कितनी सही है या गलत यह आपके विवेक पर निर्भर करता है। आपके मानने या ना मानने से उन बातों का अस्तित्व नष्ट नहीं हो जाता है। जो लोग राशिफल पर पूर्णतयः विश्वास करते है वे उसके अनुसार ही चलते है, जैसे दैनिक राशिफल में ग्रह-नक्षत्र की चाल के आधार पर आपको यह बताया जाता है कि आज के दिन आपके राशि के सितारे आपके अनुकूल हैं या नहीं। आज आपको किन चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है या फिर किस तरह के अवसर आपको प्राप्त हो सकते हैं। दैनिक राशिफल को पढ़कर आप दोनों ही परिस्थिति (अवसर और चुनौतियों) के लिए तैयार हो सकते हैं।

दैनिक राशिफल मुख्यतः ज्योतिष शास्त्र के अंतर्गत ही आता है। हर जातक का उसकी राशि के आधार पर राशिफल होता है। वह प्रत्येक जातक का निजी होता है और उसका आधार प्रश्न कुंडली व नष्टजातकम् पद्धति होता है।

अंक ज्योतिष से राशिफल | Rashifal by Numerology

अंक ज्योतिष पद्धति द्वारा भी दैनिक राशिफल निकाला जाता है। उस दैनिक राशिफल के लिए व्यक्ति को ज्योतिषी से प्रश्न करना होता है कि ‘मेरा आज का दिन कैसा रहेगा? (Aaj Ka Rashifal), तब ज्योतिषी प्रश्न कुंडली के आधार पर अथवा उस व्यक्ति से कोई अंक पूछकर उसके दिन के बारे गणना कर उस दिन का भविष्य संकेत उसे बताता है। इस तरह जो दैनिक राशिफल बताया जाता है वह पूर्ण रूप से व्यक्तिगत होता है न कि सार्वजनिक। अंक ज्योतिष के आधार पर निकाला गया राशिफल को गंभीरता से न लेते हुए अपनी राशि से निकाले गये राशिफल पर ज्यादा विश्वास करना चाहिए क्योंकि वह ग्रह स्थितियों, दशाओं व अपनी राशि गोचर देखकर निकाला जाता है। यदि किसी दिन के बारे में अधिक विस्तार से जानना बहुत आवश्यक हो तो किसी विद्वान ज्योतिष से प्रश्न कर इस संबंध में निर्णय करना अधिक श्रेयस्कर व लाभदायक रहता है।

नाम के अनुसार राशिफल | Rashifal by Name | Horoscope by Name in Hindi

व्यक्ति के नाम का पहला अक्षर उस राशि के अनुसार रखा जाता है जिसमें व्यक्ति के जन्म के समय चंद्रमा जिस राशि में होता है, और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भी नाम का पहला अक्षर राशि चक्र का ही होता है। इसलिए ज्योतिष शास्त्र में नाम के पहले अक्षर को काफी महत्व दिया गया है क्योंकि इसके अनुसार ही आपकी राशि का निर्धारण होता है। 

12 राशियों में नाम के अनुसार आपकी राशि | Zodiac Sings by Name | Naam se Rashi Kaise Nikale

मेष  -Aries (Mesha) अ,च, चू, चे, ला, ली, लू, ले
वृषभ –  Taurus (Vrishabha)उ, ए, ई, औ, द, दी, वो
मिथुन- Gemini (Mithuna)के, को, क, घ, छ, ह, ड
कर्क- Cancer (Karka)ह, हे, हो, डा, ही, डो
सिंह – Leo (Singha)म, मे, मी, टे, टा, टी
कन्या – Virgo (Kanya)प, ष, ण, पे, पो, प
तुला – Libra (Tula)रे, रो, रा, ता, ते, तू
वृश्चिक – Scorpio (Vrushchika)लो, ने, नी, नू, या, यी
धनु  – Sagittarius (Dhanu)धा, ये, यो, भी, भू, फा, ढा
मकर  – Capricorn (Makara)जा, जी, खो, खू, ग, गी, भो
कुंभ –   Aquarius (Kumbha)गे, गो, सा, सू, से, सो, द
मीन – Pisces (Meena)दी, चा, ची, झ, दो, दू

हर राशि के पहले अक्षर के आधार पर उस नाम के व्यक्ति के राशिफल का निर्धारण होता है।

जन्मतिथि के अनुसार राशिफल | Rashifal by Date of Birth in Hindi | Horoscope by Date of Birth in Hindi

जन्मतिथि के अनुसार राशिफल की गणना के लिए हर माह के 30 दिन विभिन्न राशियों के निर्धारण है और उसी के अनुसार राशिफल निकाला जाता है। जैसे – Janmtithi Se Apni Rashi Kaise Pata Kare

  • 21 मार्च से 20 अप्रैल के बीच जन्म लेेने वाले जातकों की मेष राशि,
  • 21 अप्रैल से 21 मई के बीच वृषभ राशि,
  • 22 मई से 21 जून मिथुन राशि,
  • 22 जून से 22 जुलाई के बीच कर्क राशि,
  • 23 जुलाई से 21 अगस्त के बीच सिंह राशि,
  • 22 अगस्त से 23 सितम्बर तक कन्या राशि,
  • 24 सितम्बर से 23 अक्टूबर तक तुला राशि,
  • 24 अक्टूबर से 22 नवम्बर तक वृश्चिक राशि,
  • 22 नवम्बर से 22 दिसम्बर के बीच पैदा हुए जातकों की जन्मतिथि के अनुसार राशि मीन होती है।

राशिफल पर विश्वास करना चाहिए कि नहीं | Kya Rashifal Sahi Hota Hai

कुछ लोगों का मानना है कि राशिफल पूर्णतयः असत्य है और उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए। उनका मतान्तर है कि कर्म पर विश्वास रखना चाहिए क्योंकि कर्म ही प्रधान है। अगर कर्म करोगे तो भाग्य अवश्य ही बदलेगा। यह सत्य है लेकिन पूर्णतयाः नहीं क्योंकि अगर भाग्य में कुछ लिखा है तो वह तो होकर ही रहेगा। उसे कोई नहीं बदल सकता। इसलिए राशिफल की महत्ता और अधिक बढ़ जाती है क्योंकि वार्षिक राशिफल की मदद से हम यह जान पाते है कि अमुक साल हमारे साथ क्या घटना घटित होने वाली है।

बारह राशियाँ 125 करोड़ लोग भारत वर्ष में। यानी एक राशि के दस करोड़ से ज्यादा लोग। ऐसे में यह जरूरी नहीं कि जो राशिफल एक राशि में वर्णित है, वह सभी व्यक्तियों पर लागू हो जैसे कि राशिफल में अमुक राशि में लिखा है कि आपकी यात्रा सुखद रहेगी या फिर आपको आर्थिक हानि की सम्भावना है तो इस बात की संभावना नही होती है कि सभी को आर्थिक हानि हो जाये। अगर कोई व्यक्ति यात्रा ही नहीं कर रहा है तो फिर उसकी यात्रा अच्छी या बुरी होने का प्रश्न ही नहीं उठता है।
हां इंटेरनेट या यू ट्यूब पर जो राशिफल प्रसारित किया जाता है उसका कोई औचित्य नहीं होता है। वह पूर्ण रूप से भ्रामक होता है क्योंकि वह मनगढंत रूप से बनाया जाता है। ऐसे में आपको उसको मानने पर लाभ की जगह हानि ही होगी। इसलिए उस राशिफल को देखकर उस पर विषय नहीं करना चाहिए।

अपने राशिफल के बारे में हर व्यक्ति के मन में रोज जिज्ञासा रहती है। हर व्यक्ति रोज अपने राशिफल को जानना चाहता है। आज के लेख में हमने राशिफल के बारे में आपको अधिक से अधिक जानकारी देनी की कोशिश की। उम्मीद करते है यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी। इस महत्वपूर्ण जानकारी को और लोगों को भी बताये ताकि लोगों के मन में राशिफल को लेकर जो सवाल उठता है कि राशिफल सही होता है या गलत इसको लेकर जो भ्रम की स्थिति हो वह दूर हो सके।

यह भी पढ़ें :

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *